Durg News: तीन दिन बाद मिली गरिमा की लाश, शिवनाथ नदी में पिकअप गिरने से मां-दो बहन सहित चार की गई थी मौत - SURGUJA TIMES
ताजा खबरदुर्ग

Durg News: तीन दिन बाद मिली गरिमा की लाश, शिवनाथ नदी में पिकअप गिरने से मां-दो बहन सहित चार की गई थी मौत

Durg News: छत्‍तीसगढ़ के दुर्ग में परिवार सहित शिवनाथ के पुराने पुल से नदी में गिरी 11 साल की मासूम गरिमा की लाश तीन दिन बाद शुक्रवार सुबह मिली। शिवनाथ नदी के पुराने पुल से पिकअप वाहन गिरने से पांच लोगों की दर्दनाक मौत हो गई।

दुर्ग। Durg Crime News: छत्‍तीसगढ़ के दुर्ग में परिवार सहित शिवनाथ के पुराने पुल से नदी में गिरी 11 साल की मासूम गरिमा की लाश तीन दिन बाद शुक्रवार सुबह मिली। दुर्ग से 30 किलोमीटर दूर कोटनी और बेलौद गांव के पास स्थानीय मछुआरों ने बच्ची की लाश देखी। एसडीआरएफ की टीम ने मौके पर पहुंचकर लाश को बाहर निकलवाया। लाश काफी फूल चुकी थी। कपड़ों के आधार पर पहचान गरिमा के रूप में कर ली गई। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद लाश स्‍वजनों को सौंपने की बात कही है।

बता दें कि मंगलवार रात दुर्ग के शिवनाथ नदी के पुराने पुल से बोलेरो पिकअप वाहन गिर गई। जिसमें पांच लोगों की दर्दनाक मौत हो गई। चार लाशें बरामद कर ली गई थी। एक बच्ची की लाश तीन दिन बाद आज शुक्रवार को मिली है।

आधार कार्ड से हुई पहचान

लाश मिलने के बाद पुलिस ने पहचान के लिए मृतकों की तलाश ली। मृतक की पहचान ललित साहू निवासी बोरसी दुर्ग मूल निवासी सकरौद जिला बालोद के रुप में हुई। काफी देर तक मृतका तथा दोनों बच्चियों की पहचान नहीं हो पा रही थी। इसलिए ऐसा अंदेशा जताया जाने लगा कि संभवत यह एक ही परिवार है।

इस बीच तलाश के दौरान बोलेरो में एक पर्स मिला। जिसमे महिला तथा तीन बच्चों का आधार कार्ड मिला। आधार कार्ड में मृतका का नाम तामेश्वरी देशमुख (33) पति गिरिश देशमुख निवासी सकरौद (गुंडरदेही), कुमारी यशलक्ष्मी (13) पिता गिरीश, कुमारी गरिमा (11) पिता गिरीश तथा कुमारी कुमुद (7) पिता गिरीश लिखा हुआ था। जिसके आधार पर यह तय हो गया कि तीनों बच्चे मृतका के ही थे। गाड़ी में आधार कार्ड व पर्स तो मिला लेकिन ललित या तामेश्वरी का मोबाइल बरामद नहीं किया जा सका है।

देवादा ढाबे से खाना खाकर लौट रहा था परिवार

पांच लाशें तथा पांच आधार कार्ड मिलने के बाद पुलिस ने जांच तेज कर दी। एएसपी सिटी संजय ध्रुव की अगुवाई में एक टीम ने दुर्ग से राजनांदगांव तक की जांच की। हर ढाबे व चाय पान ठेले में पूछताछ की। इस दौरान देवादा ढाबे के सीसी टीवी फुटेज मे सभी खाना खाते दिखाई दिए।

ढाबे वाले ने पुलिस को बताया कि एक महिला, एक पुरुष तथा तीन बच्चे रात 10 बजे ढाबे में खाना खाने आए थे। खाना खाने के बाद रात 11.30 बजे दुर्ग के लिए लौट गए। ढाबा संचालक ने पुलिस को यह भी बताया कि सभी काफी खुश थे।

पति को बताकर बच्चों के साथ खाना खाने गई थी तामेश्वरी

जांच के दौरान जो बातें छनकर सामने आई उसके मुताबिक ललित साहू व तामेश्वरी दोनों सकरौद गांव के रहने वाले थे। ललित बीएसपी में ठेका मजदूर था। पिकअप वाहन चलाता था। वह गांव छोड़कर बोरसी दुर्ग में रहने लगा था। ललित शादीशुदा है तथा उसके भी तीन बच्चे हैं। वहीं तामेश्वरी का पति गिरीश सीएफ में नौकरी करता है। उसकी ड्यूटी रायपुर में है। तामेश्वरी कुछ दिनों से दुर्ग कसारीडीह में अपने पति व बच्चों के साथ किराए के मकान में रह रही थी।

तामेश्वरी के पति गिरीश ने बताया कि गिरीश उसके गांव का था। अच्छी जान पहचान थी। घर आना जाना था। मंगलवार को त्यौहार के कारण तामेश्वरी ने बाहर खाना खाने की बात कही। ललित उसकी पत्नी व बच्चों को लेकर खाना खिलाने ले गया था। जब काफी रात तक उनके लौट आने की सूचना नहीं मिली तब गिरीश ने तलाश शुरू की। सुबह उसे घटना की सूचना मिली। बयान चार लोगों की लाश बरामद कर ली गई है। एक बच्ची मिसिंग है। उसकी तलाश की जा रही है। मामले में हर एंगल से जांच की जा रही है। संजय ध्रुव, एएसपी सिटी, भिलाई दुर्ग

surguja times

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!